Home India अलवर में 9 मुस्लिम पुलिसकर्मियों की दाढ़ी रखने की अनुमति की गई...

अलवर में 9 मुस्लिम पुलिसकर्मियों की दाढ़ी रखने की अनुमति की गई निरस्त

88
SHARE

अलवर: राजस्थान के अलवर जिले में तैनात नौ मुस्लिम पुलिसकर्मियों को दाढ़ी रखने की मंजूरी को वापस ले लिया गया है. पुलिस अधीक्षक अनिल पारिस देशमुख ने एक आदेश जारी कर जिले में तैनात नौ मुस्लिम पुलिसकर्मियों को दाढ़ी रखने की छूट को राज्य सरकार के नियमानुसार तुरंत प्रभाव से वापस ले लिया है.

अलवर पुलिस प्रशासन ने कुल मिलाकर 32 पुलिसकर्मियों को ड्यूटी के दौरान दाढ़ी रखने की अनुमति दे रखी थी. देशमुख ने बताया कि दाढ़ी रखने की इजाजत को इसलिए वापस लिया गया है ताकि पुलिसकर्मी निष्पक्षता के साथ काम कर सके और निष्पक्ष दिखें. आदेश के मुताबिक एएसआई इसराइल अहमद, हेडकांस्टेबल छोटे खां, कांस्टेबल अब्बास खां, असरद खान, समरदीन, जैकम खां, मुस्ताक, दीन मोहम्मद और साहिद निसार की दाढी रखने की अनुमति को निरस्त किया गया.

देशमुख ने बताया कि इस आदेश का मुख्य उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि पुलिसकर्मी अपनी ड्यूटी निष्पक्षता के साथ करें. उन्होंने कहा, पुलिसकर्मियों को ना केवल निष्पक्षता के साथ काम करना चाहिए बल्कि उनको निष्पक्ष दिखना भी चाहिए. यदि इस आदेश से किसी को पीड़ा है तो वह इस संबंध में अपना प्रार्थना पत्र दे सकता है उस पर उचित कार्रवाई की जाएगी.

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के प्रावधनों के अनुसार विभाग का मुखिया पुलिसकर्मियों को दाढ़ी रखने की इजाजत प्रदान कर सकता है. सरकार के प्रावधानों के अनुसार 32 पुलिसकर्मियों को स्वीकृति प्रदान की गई थी. नौ पुलिस कर्मियों की स्वीकृति को वापस ले लिया गया है जबकि शेष पुलिस कर्मियों को दी गई स्वीकृति जारी रहेगी. उन्होंने कहा कि हालांकि इस फैसले पर पुनर्विचार किया जा सकता है और पीड़ित अपना आवेदन दे सकते हैं.

मामले में जिला मेव पंचायत के संरक्षक शेर मोहम्मद ने कहा कि 1999 में सुप्रीम कोर्ट/केंद्र सरकार से धर्म विशेष को दाढ़ी रखने के लिए अधिकृत माना गया. उन्होंने इस आदेश को वापस लेने की मांग की है. उधर, एसपी देशमुख परिश अनिल ने कहा कि किसी को इस विषय में आपत्ति है तो अपील कर सकता है, उस पर विचार किया जाएगा.


बदल गया अरब का कानून, अब अरबी महिला से भारतीय पुरुष भी शादी कर सकतें हैं , अगर आप भी शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें