Home India अयोध्या मामला में जमीयत उलेमा ए हिंद ने दाखिल की पुनर्विचार याचिका

अयोध्या मामला में जमीयत उलेमा ए हिंद ने दाखिल की पुनर्विचार याचिका

63
SHARE

अयोध्‍या मामले में जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार  याचिका दाखिल कर दी। यह याचिका मौलाना सैयद अशद रशीदी की ओर से दायर की गई है, जो अयोध्या मामले में मुस्लिम पक्ष के 10 याचिकाकर्ताओं में से एक हैं। वहीं ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने भी पुनर्विचार याचिका दाखिल करने की बात कही है।

यह पुनर्विचार याचिका इस विवाद में मूल वादकारियों में शामिल एम. सिद्दीक के कानूनी वारिस मौलाना सैयद अशद रशीदी ने दायर की है। इसमें कहा गया है कि फैसला त्रुटिपूर्ण है और इस पर संविधान के अनुच्छेद 137 के तहत पुनर्विचार की जरूरत है।

पुनर्विचार याचिका मे कहा गया है कि शीर्ष अदालत ने पक्षकारों को राहत के मामले में संतुलन बनाने का प्रयास किया है, हिंदू पक्षकारों की अवैधताओं को माफ किया गया है और मुस्लिम पक्षकारों को वैकल्पिक रूप में पांच एकड़ भूमि का आबंटन किया गया है जिसका अनुरोध किसी भी मुस्लिम पक्षकार ने नहीं किया था। पुनर्विचार याचिका में उन्होंने कहा है कि इस तथ्य पर गौर किया जाये कि याचिकाकर्ता ने संर्पूण फैसले को चुनौती नही दी है।

वहीं ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्‍य जफरयाब जिलानी ने कहा, ‘हम भी पुनर्विचार  याचिका दाखिल करेंगे लेकिन आज नहीं। याचिका का मसौदा तैयार है और 9 दिसंबर के पहले किसी भी दिन इसे कोर्ट के समक्ष दायर करेंगे।’ मुस्‍लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के मौलाना वली रहमानी का कहना है कि मुस्लिम समुदाय का कानून में भरोसा है इसलिए ही पुनर्विचार याचिका दायर की जा रही है। इससे पहले मामले में कोर्ट के फैसले को लेकर सुन्नी वक्फ बोर्ड ने पुनर्विचार याचिका दाखिल न करने का फैसला लिया था।

उधर, प्रतिबंधित कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (माओवादी) ने अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का विरोध करते हुए 8 दिसंबर को देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया है। माओवादी सेंट्रल कमिटी के प्रवक्ता अभय ने एक बयान जारी कर कहा कि पार्टी 8 दिसंबर को देशव्यापी हड़ताल करने से पहले 6 और 7 तारीख को फैसले के खिलाफ प्रदर्शन करेगी। उन्होंने इस आंदोलन में शामिल होने की सेक्युलर, डेमोक्रैटिक और अन्य से अपील की है।


बदल गया अरब का कानून, अब अरबी महिला से भारतीय पुरुष भी शादी कर सकतें हैं , अगर आप भी शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें