Home India पुणे में डरी-सहमी कश्मीरी लड़कियों को सिखों ने पहुंचाया घाटी में अपने...

पुणे में डरी-सहमी कश्मीरी लड़कियों को सिखों ने पहुंचाया घाटी में अपने घर

137
0
SHARE

धारा 370 हटने के बाद कश्मीरी लड़कियों को लेकर सोशल मीडिया और बीजेपी नेताओं के आ रहे विवादित बयानों के चलते अकाल तख्त के एक जत्थेदार ने शुक्रवार को सिख समुदाय से कश्मीरी लड़कियों की सुरक्षा की अपील की। इसी बीच महाराष्ट्र के पुणे से सिख समुदाय द्वारा डरी-सहमी 32 कश्मीरी लड़कियों को घाटी में अपने घर पहुंचाने का मामला सामने आया है। एक फेसबुक पोस्ट में लड़कियों को कश्मीर पहुंचाने वाले ग्रुप में बताया कि वाहेगुरु जी की असीम कृपा से मुझे कल रात दिनांक 8-9-2019 को एक विशेष सेवा करने का अवसर प्राप्त हुआ।

काश्मीरी बेटियों की सकुशल वापसी पर सिख भाई का आभार जताते परिवार जन,कुछ तो ख़ास है इन मर्द मुजाहिदों की कौम मेंदिल में है दया तो बहादुरी इनके रोम रोम में, दिल से सलाम है सच्चे रीयल भारतीय हीरों को 🙏🙏

Posted by Sikh Sangat Uttrakhand on Monday, August 12, 2019

उन्होने लिखा, कल शाम 5:00 बजे “550 साला श्री गुरु नानक प्रकाश पूर्व यात्रा के चीफ कोऑर्डिनेटर रायपुर निवासी हरमन प्यारे सेवादार सरदार परमिंदर सिंह जी भाटिया ने मुझे फोन पर सूचित किया कि दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के कुछ सेवादारों को पुणे में आपकी सेवाओं की तुरंत जरूरत है दिल्ली के सेवादार आपसे संपर्क करेंगे और आप उन्हें तुरंत मदद कीजिए। फिर करीबन 7:00 बजे दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के सेवादार सरदार बलजीत सिंह जी बबलू वीर जी ने फोन पर मुझे सूचित किया कि कश्मीर से आई हुई 32 लड़कियां पुणे में योजना नगर, के के फॉर्म, लोह गांव मेँ पास रुकी हुई है लड़कियां कश्मीर से पुणे में नौकरी के सिलसिले मेँ इंटरव्यू देने आयी थी। परंतु धारा 370 कश्मीर से हटने के बाद जो कश्मीर में तंग वातावरण निर्माण हुआ है इस कारण पूरे कश्मीर की संचार व्यवस्था ठप हो चुकी है इन कठिन परिस्थितियों में यहाँ कश्मीरी लड़कियां अपने घरों में संपर्क नहीं कर पा रही थी इसलिए यहाँ बच्चियां काफी डरी हुई और सहमी हुई थी एवं कुछ बच्चियां लगातार रो रही थी। इस घबराए हुए वातावरण को देखते हुए उनके सर श्री नावेद ने दिल्ली में स्थित अपने कश्मीरी कोऑर्डिनेटर मैडम रुकय्या किरमानी को संपर्क किया। मैडम रुकय्या किरमानी ने दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के सेवादार बबलू वीरजी को संपर्क किया एवं उन्हें निवेदन किया कि इन बच्चियों को तुरंत कश्मीर उनके घर पहुंचाना है इसलिए आप हमारी मदद करें।

सिक्खों ने 32 कश्मीरी लड़कियों को पुणे से उनके घर कश्मीर तक सुरक्षित पहुंचाया गया !!जो सन्ताप 1984 में सिक्खों ने झेला…

Posted by Sikh Sangat Uttrakhand on Friday, August 9, 2019

उन्होने बताया, विषय की गंभीरता को समझते हुए दिल्ली प्रबंधक कमेटी के सेवादार बबलू वीर जी ने मुहिम को अपने हाथ में लिया और तुरंत मुझे संपर्क किया और मुझसे मदद मांगते हुए कहा कि दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के हम सेवादार इन बच्चियों की कश्मीर तक एयर टिकट निकाल रहे हैं आप से यह विनती है कि कृपया करके आप इन 32 बच्चियों को योजना नगर, के के फॉर्म, लोह गांव पुणे से लेकर कुछ बच्चियों को पुणे एयरपोर्ट और कुछ बच्चियों को मुंबई एयरपोर्ट सुरक्षित पहुंचाएं। विषय की जानकारी मिलने के बाद मैंने तुरंत हमारे सभी सेवादार सरदार हरपाल सिंह जी राजपाल, सरदार रंजीत सिंह जी अरोरा, सरदार जसपाल सिंह जी खंडूजा, सोमवार रमिंदर सिंह की राजपाल, सरदार कुलदीप सिंह जी टुटेजा से तुरंत संपर्क कर एक प्लानिंग कर उनके सर श्री नावेद से संपर्क कर उन्हें फोन पर तसल्ली दी कि हम सभी सेवादार तुरंत आप तक पहुंच रहे हैं और हम आपको एयरपोर्ट तक सुरक्षित पहुंचा देंगे।

32 कश्मीरी बेटियों को सुरक्षित उनके उनके घर परिवार में सुरक्षित पहुँचा कर जो ज़िम्मेदारी गुरु साहिब ने अपने सेवकों को दी…

Posted by Sikh Sangat Uttrakhand on Sunday, August 11, 2019

उन्होने कहा,, हम सभी ने तुरंत चार कारे और एक टेंपो लिया और इन बच्चों को सुरक्षित एयरपोर्ट पहुंचाने के लिए निकल पड़े। हमारे में से सरदार हरपाल सिंह जी राजपाल सबसे पहले वहां पहुंचे और उनके द्वारा जब खांदवे नगर के राष्ट्रवादी के कार्यकर्ता श्री विश्वास खांदवेजी श्री प्रदीप चौहान एवं गांव के बीजेपी के सरपंच श्री सुनील जी खांदवे को भी जब यह पता लगा तो वह भी तुरंत एक 17 सीटर बस लेकर वहां पर पहुंच गए। बच्चियों को मिलने के बाद यह समझ में आया कि बच्चियां काफी घबराई हुई हैं एवं डरी हुई थी इसका कारण यह था कि बच्चियों का अपने परिवारों से तीन-चार दिन से कोई संपर्क नहीं हो रहा था मैंने वह मेरे सभी सेवादारों ने बच्चियों को विश्वास दिलाया कि घबराने की कोई बात नहीं है आप सभी सुरक्षित हैं आप सभी पूना शहर में हैं जो कि हिंदुस्तान का सबसे सुरक्षित शहर है और इन सब बातों के बाद बच्चियों को काफी तसल्ली हुई और उनका रोना धोना बंद हुवा। हमने उन सभी बच्चियों की भोजन व्यवस्था की और फिर 14 बच्चियों की जिनकी टिकट पुणे से थी उन्हें पुणे एयरपोर्ट पर सुरक्षित पहुंचा दिया और बची हुई बच्चियों को पुणे स्टेशन से तीन टैक्सियों में खालसा एड के दो सिख सेवादारों की सुरक्षा में सुरक्षित मुंबई एयरपोर्ट पहुंचाया गया।

कश्मीरी बेटियों को सकुशल उनके घर परिवार में हिफ़ाजत से पहुचाता एक सच्चा, बहादुर, वीर मरती हुई इंसानियत की आस हो तुमकाली स्याह घनेरी रात के चिराग हो तुमये हैं मेरे भारत के असली हीरो, साथियों ये उनके ऊपर करारा तमाचा है जो हमारी बहन बेटियों पर भद्दे भद्दे कमेंट कर रहे थे व अपने ही देश में हमारी कश्मीरी बेटियों में असुरक्षा व भय की भावना पैदा हो गयी थी लेकिन इन बहादुर सिख वीरों की बदौलत आज पूरे संसार में एक अच्छा सन्देश गया है अच्छा सोचने व परोपकार की भावना रखने वाले चाहे गिनती में कम ही क्यों न हो लेकिन अच्छी शुरुआत करने की हिम्मत व जज्बा हो तो कारवां अपने आप बन जाता है,आज इन बेटियों को सुरक्षित अपने घर देखकर उनके परिवार व बेटियों के चेहरों में ईद के दिन जो सुकून महसूस कर रहा हूँ साथियों वो शब्दों में बयाँ करना बहुत ही मुश्किल है, बस एक ही दुआ है की काश मेरे मुल्क का हर भारतीय ऐसी सोच रखने लग जाये तो मेरे भारत को स्वर्ग बनने से कोई नही रोक सकता, साथियों कमेंट जरूर करें व ज्यादा से ज्यादा शेयर करने में कंजूसी कतई न करेँ क्योकि मेरा मानना है की ऐसे सन्देशों से अगर कुछ लोगों का भी मन अगर बदलता है तो इन सिख वीरों की मेहनत वाकई सफल मानी जायेगी,🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

Posted by Sikh Sangat Uttrakhand on Monday, August 12, 2019

यहाँ सभी बच्चियां दिल्ली सुरक्षित पहुंची और वहां से सरदार बलजीत सिंह जी बबलू वीर जी एवं उनके साथियों द्वारा इन बच्चियों को सुरक्षित कश्मीर में इनके घरों में पहुंचा दिया गया है। हम सिखों का हमेशा से फर्ज रहा है कि इंसानियत के नाते हर व्यक्ति की मदद करना बिना किसी जात पात के देखे हुए और यहाँ मैंने और साथियो ने ईमानदारी से निभाया बड़ी खुशी की बात थी कि विशेष तौर पर इस मुहिम में पुणे के नागरिक राष्ट्रवादी के कार्यकर्ता श्री विश्वास जी खांदवे एवं बी जे पी के सरपंच श्री सुनील खांदवे जी एवं उनके साथियों ने भी हमारी सहायता की इसके लिए इन सभी का विशेष तौर पर धन्यवाद।


बदल गया अरब का कानून, अब अरबी महिला से भारतीय पुरुष भी शादी कर सकतें हैं , अगर आप भी शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here