प्रवासियों के देश छोड़ने पर कुवैत के इस विभाग को करना पड़ रहा है भारी संकट का सामना

गल्फ देशों में हो रहे राष्ट्रीयकरण की वजह से गल्फ देशों में प्रवासियों की मुसीबतें कम होने का नाम ही नहीं ले रही हैं, खाड़ी देशों में आधे से ज्यादा क्षेत्रों में राष्ट्रीयकरण हो चूका है, जिसके बाद कई प्रवासी खाड़ी देशों को छोड़ चुके हैं और कई प्रवासी खाड़ी देशों को छोड़ने की योजना बना रहे हैं. कुवैत रियल एस्टेट एसोसिएशन द्वारा मार्च में किए गए सर्वे के अनुसार “आवासीय भवनों में करीब 14 प्रतिशत फ्लैट खाली थे अर्थात कुल 371,000 फ्लैटों में से लगभग 52,000 फ्लैट खाली थे लेकिन लगता है यह संख्या अब बढ़ चुकी है.”

75,000 से अधिक फ्लैट्स हुए हैं खाली 

हाल ही में किये गए एक सर्वे के दौरान कुवैत में चेतावनी देकर कहा गया है की “75,000 से अधिक फ्लैट्स कुवैत में खाली है और जिन्हें चार या पांच सालों में रियल एस्टेट द्वारा भरने की जरुरत है.”

कुवैत के रियल एस्टेट यूनियन के महासचिव अहमद अल देवेईस के अनुसार, वर्तमान में कुवैत में 49,130 ​​खाली फ्लैट और 26,466 अधिक निर्माणाधीन हैं.

कुवैत शहर में एक संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा कि पिछले पांच सालों में फ्लैटों का इस्तेमाल किया जा रहा है, जो पिछले पांच सालों में 95 फीसदी घटकर 86.8 फीसदी हो गया है. संघ द्वारा तैयार एक रिपोर्ट “अल मुर्शेद  2017″ का हवाला देते हुए अल देवेइस ने कहा कि औसत मासिक किराया केडी 278.9 से केडी 242 तक 13.2 फीसदी गिर गया है.”

रिपोर्ट में 19695 भूखंडों में 196,576 फ्लैटों का नमूना 19 अलग-अलग स्थानों पर किया गया. कुवैत में फ्लैटों के प्रमुख उपयोगकर्ताओं का गठन करने वाले प्रवासी लोगों की संख्या में कमी आने की स्थिति में स्थिति बढ़ने की संभावना है. प्रवासियों के देश छोड़ने पर कुवैत में रियल एस्टेट को भारी नुकसान हो रहा है.

क्यों जा रहे हैं प्रवासी ?

विशेषज्ञों ने बताया कि चिकित्सा शुल्क में वृद्धि, बिजली के दामों के साथ-साथ विभिन्न वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों में वृद्धि होने के कारण बहुत अधिक प्रवासी, खर्चों को सीमित करने के लिए कई प्रवासियों को अपने परिवार को घर भेजने की योजना के लिए प्रेरित किया गया है. उन्होंने कहा की “कीमतों में हुई वृद्धि के साथ-साथ प्रवासियों के वेतन में कोई भी वृद्धि नहीं हुई, जिस वजह से प्रवासियों पर वित्तीय बोझ बढ़ गया है और वह अपने-अपने घरों को वापस आने की योजना बना रहे हैं.”

कुवैतियों को रोजगार देने के लिए कानून निर्माताओं ने देश में विदेशियों की संख्या को कम करने के लिए अभियान चलाया गया है जिस वजह से देश में प्रवासी देश छोड़ रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *